पूजा पाठ

अहोई अष्टमी पर ऐसे करें पूजा, संतान को मिलेगा वरदान

अहोई अष्टमी पर कैसे करें पूजा कि संतान को मिले दीर्घायु का वरदान.

31 अक्टूबर कार्तिक मॉस कृष्ण पक्ष

को मनायी जाएगी. महिलाएं अपने बच्चों की रक्षा के लिए निर्जला व्रत रखती हैं. निःसंतान महिलाएं संतान पाने के लिए व्रत करती है. स्याउ माता की पूजा होती है.

दीवार पर बनाएं स्याउ माता और बच्चे

आठ कोणोंवाली पुतली बनाएं

लाल सिंदूर से पुतली बनाएं

पुतली के पास स्याउ माता होती है

अगल बगल छोटे बच्चे बनाये जाते हैं

माताएं बिना अन्न जल ग्रहण किये स्याउ माता की पूजा करती है

स्याउ माता  बेटे बेटी को दीर्घाऊ बनाएंगी

गारंटी के साथ उनकी पढ़ाई और नौकरी अच्छी करेंगी

स्याउ माता  की कृपा से पुत्र पुत्री का  जीवन सुखी होगा

माताओं को अपने बेटे और बेटियों के भविष्य की चिंता रहती है

Topics